अन्य संतो द्वारा दिए गए सभी अभिग्रहो की जानकारी

भगवन महावीर स्वामी के अभिग्रह

  • राजकुमारी हो
  • बिकी हुई हो
  • मस्तक मुंडा हो
  • तीन दिन से भूखी हो
  • एक पॉउ देहलीज के बाहर हो एक पॉउ देहलीज के अंदर हो
  • हाथ में हथकड़ी हो
  • पैरो में बैढी हो
  • दिन का तीसरा प्रहर हो
  • आखों में आंसू हो
  • हाथ में सूपड़ा हो
  • उड़द क बाक्ले हो
  • अतिथि का रास्ता देख रही हो
  • सफेद कच्छा पहना हो

प. पू. आचर्य भगवंत उमेश गुरुदेव के अभिग्रह

कोई संत पानी की भावना भावे तो नहीं तो ६ उपवास का पारणा करना

  • सधवा स्त्री प्लेन साड़ी पहने हो
  • द्वार पर हाथ में दूध का कटोरा ले कर खड़ी हो
  • भावना भावे म.सा. पधारो
  • ५ घर से ज्यादा नहीं जाना
  • अभिग्रह फले तो ठीक नहीं तो तेला करना

उप प्रवक्तक देव श्री गुलाब मुनिजी म .सा. के अभिग्रह

  • तीन पीढ़ी हाथ जोड़े सहित अर्थात – दादा दादी, पुत्र पुत्र बहू, पोता -पोता बहू
  • ऐसे ६ लोग पारणा का कहे तो पारणा करूँगा, नहीं तो ४० दिन उपवास करूँगा. ३ दिन में ही योग जम गया.
  • कोई गर्भवती बहन नंदी सुनाने की भावना भावे.
  • कोई एक घर के तीन सदस्य जिन्हे प्रतिक्रमण कंठस्थ हो वे पारणा की विनती करे, कसरावद में फला
  • बालकवाड़ा वाले ताराचंद सुदर्शन जी राहुल ने (४ पीठी ) फलाया I ९ उपवास का अभिग्रह था.